www.poetrytadka.com

zazbaat apne ho to zazbaat hai

इंसानों की इस दुनिया में,बस यही तो इक रोना है !
जज़्बात अपने हों तो ही जज़्बात हैं दूजों के हों तो खिलौना हैं !!