www.poetrytadka.com

zamane bhar ki daulat

zamane bhar ki daulat

उन बूढी उंगलियों में कोई ताकत तो न थी मगर

सिर झुका तो कांपते हाथो ने जमाने भर की दौलत दे दी