www.poetrytadka.com

ye soch liya hai

ये सोच लिया है की . किसी को आवाज़ नहीं देनी !
की अब मैं भी तो देखूं..कोई कितना तलबगार है मेरा !!