www.poetrytadka.com

yado ka bazar

शाम होते ही सज जाता है तेरी यादों का बाजार !
बस इसी रौनक से हमारी रात गुजर जाती है !!