www.poetrytadka.com

Wo saath tha to

वो साथ था तो मानों जन्नत थी ज़िन्दगी !
अब तो हर साँस जिन्दा रहने की वजह पूछती है !!