www.poetrytadka.com

Wo mujhe bhool raha hai

तन्हाई की दीवारो पे घुटन का पर्दा झूल रहा है...
बेबसी की छत के नीचे,कोई किसी को भूल रहा है
Wo mujhe bhool raha hai