www.poetrytadka.com

बेहतरीन हिन्दी शायरी

बेहतरीन हिन्दी शायरी | Great shayari | बेहतरीन शेर



be khabar nahi

ये सोचना ग़लत है कि तुम पर नज़र नहीं
मसरूफ़ हम बहुत हैं मगर बे-ख़बर नहीं be khabar nahi

wo mujhe bhool raha hai

तन्हाई की दीवारो पे घुटन का पर्दा झूल रहा है...
बेबसी की छत के नीचे,कोई किसी को भूल रहा है wo mujhe bhool raha hai

adhuri reh jati hai

कुछ कहानियाँ अक्सर अधूरी रह जाती है,
कभी पन्ने कम प़ड़ जाते है तो कभी स्याही सूख जाती है adhuri reh jati hai

samajh nahi pai

मेरे दर्द से तो पत्थर तक पिघल जाये,
बस एक वो है जो ये समझ नहीं पाई samajh nahi pai

dil se chura leti hai

शाम होते ही तेरे प्यार की पागल खुशबु
नींद आँखों से, सुकून दिल से चुरा लेती है dil se chura leti hai

aansu bahana yaad hai

चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है
हम को अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है aansu bahana yaad hai

baat honi chahiye

इशारों में ही सही पर उनसे बात होनी चाहिए
इक रोज उनसे, मुलाकात भी होनी चाहिए baat honi chahiye

diwane ho gaye

चलो कुछ देर बैठें दोस्तों में ग़म जरूरी हैं,
ग़ज़ल के वास्ते थोड़ा मसाला ले लिया जाए
न जाने कैसा मौसम हो दुशाला ले लिया जाए,
उजाला मिल रहा है तो उजाला ले लिया जाए
अब अँधेरा मुस्तक़िल रहता है इस देहलीज़ पर,
जो हमारी मुन्तज़िर रहती थी आँखें बुझ गए
तुम अपने चाहने वालों की बात मत सुनियो ..
तुम्हारे चाहने वाले दिवाने हो गए diwane ho gaye

raste whi honge

रास्ते वही होंगे और नज़ारे वही होंगे,
पर हमसफ़र अब हम तुम्हारे नहीं होंगे raste whi honge

badle to nahi hai wo

बदले तो नहीं हैं वो... दिल-ओ-जान के करीने,
आँखों की जलन, दिल की चुभन अब भी वही है badle to nahi hai wo