www.poetrytadka.com

wo log bhi chalte hai

वो लोग भी चलते हैं आजकल तेवर बदल के !
जिन्हें कभी हमने चलना सिखाया था सँभाल के !!