www.poetrytadka.com

wo kya samajh paaenge

वो क्या समझ पायेंगे प्यार की कशिश !
जिन्होंने फ़र्क़ ही नहीं समझा पसन्द और प्यार में !!