Wo kitna meharbaan tha

hindi shayari wo kitna meharbaan tha

वो कितना मेहरबान था हज़ारों गम दे गया।
हम कितने खुदगर्ज़ निकले कुछ न दे सके उसे पीयर के सिवा।।

मुख्य पेज पर वापस जाए