www.poetrytadka.com

wo ishq bankar mere aankho me

वो ओझल मेरी निगाहों से कहां रहता है !
वो अश्क बनकर मेरी आंखों में रवां रहता है !
मेरे आंगन में मेले का समां रहता है !!