www.poetrytadka.com

waqt ke har sitam

मुझे मंज़ूर थे वक़्त के हर सितम मगर !
तुमसे बिछड़ जाना, ये सज़ा कुछ ज्यादा हो गयी !!