www.poetrytadka.com

utha lo hato me jaam

उठा लो हाथो में जाम महफ़िल में हुस्न-ए-शबाब आ गए !
देखो मयख़ाने में काँटों संग खुद गुलाब चल के आ गए !!