www.poetrytadka.com

us dil ki basti me aaj bhi sannata

उस दिल की बस्ती में आज अजीब सा सन्नाटा है !
जिस में कभी तेरी हर बात पर महफ़िल सजा करती थी !!