www.poetrytadka.com

Unka hath zab bhi hath me aata hai

उसका हाथ जब भी हाथ मेँ आता है !
हथेलियोँ के बीच एक ताजमहल बन जाता है.!!