www.poetrytadka.com

Tum ko dekha to khayal aaya

तुमको देखा तो ये ख़याल आया

ज़िन्दगी धूप, तुम घना साया

आज फ़िर दिल ने इक तमन्ना की,

आज फ़िर दिल को हमने समझाया

तुम चले जाओगे,तो सोचेंगे

हमने क्या खोया, हमने क्या पाया

हम जिसे गुनगुना नहीं सकते

वक़्त ने ऐसा गीत क्यू गाया

तुमको देखा तो ये ख़याल आया!!

Kavita Kosh कविता कोश