www.poetrytadka.com

tum ko dekha to

कितने जलवे फिजाओं में बिखरे मगर
हमने अबतक किसी को पुकारा नहीँ !
तुमको देखा तो नजरें ये कहने लगी
हमको चेहरे से हटना गवारा नही !!