www.poetrytadka.com

tum bhi smajh rhe ho

तुम भी समझ रहे हो हम भी तो समझ रहे हैं !
फिर दिल के सवालो में हम क्यों उलझ रहे हैं !!