www.poetrytadka.com

tsalli ho jaaegi

तसल्ली सी ज़रा हो जायेगी फक़्त इतना ही बता दो !
क्या तुम्हे भी हिचकियाँ आती हैं जब हम याद करते है !!