www.poetrytadka.com

Toofaan abhi baki hai

सपनों को पंख लगे हैं , उड़ान अभी बाकी है

राह से रोड़े हटे हैं, चट्टान अभी बाकी है 

इक लहर को पार कर यूँ बैठ न आराम से

समंदर में आना, उफान अभी बाकी है !!