www.poetrytadka.com

To kitni bhi khoobsoorat

Last Updated
तु कितनी भी खुबसुरत क्यूँ ना हो ऐ जिंदगी
खुशमिजाज दोस्तों के बगैर अच्छी नहीं लगती.

udaas mat raha karo humse bardasth nahi hota
hum apne gum bhul jate hai tuhe khush dekh kar
उदास मत रहा करो हमसे बर्दास्त नहीं होता
हम अपने गम भूल जाते है तुहे खुश देख कर

jan roh main utar jata hai be-panah ishq
log jinda to rehte hai par kisi aur ke nadar
जान रोह में उतर जाता है बे-पनाह इइश्क
लोग जिन्दा तो रहते है पर किसी और के नदर

To kitni bhi khoobsoorat