www.poetrytadka.com

thokar kha ke na sambhle

thokar kha ke na sambhle

ठोकर खा कर भी अगर ना संभले तो मुसाफिर का नशीब 

वरना रहो के पत्थर तो अपना फर्ज करते ही है