www.poetrytadka.com

teri bazm se mgar

उठ कर तो आ गये है, तेरी बज्म से मगर !
कुछ दिल ही जानता है के किस दिल से आये है !!