Poetry Tadka

Tera Khyaal

शाम-ए तन्हाई में इजाफा बेचैनी !
एक तेरा ख्याल न जाना एक दूसरा तेरा जवाब न आना !!

tera khyaal