Poetrytadka.com

Zakir Khan Shayari

Zakir Khan is an Indian comedian and poet who was born on August 20, 1987, in Indore, Madhya Pradesh. And now we are going to share some selected Zakir Khan Shayari in Hindi with you, and we hope you guys like our collections of जाकिर खान की शायरी.

zakir khan quotes

हज़ारों बार के सुने हुए गाने के लिरिक्स 
अगर अचानक से अच्छे लगने लग जाएँ, 
तोह बाबू समझ जाओ की 
इमोशनल वाट लगने ही वाली है
Hazaron Baar Ke Sune Huye Gaane Ke Lyrics 
Agar Achanak Se Achche Lagne Lag Jaayein, 
Toh Babu Samajh Jao 
Ki Emotional Watt Lagne Hi Wali Hai

zakir khan quotes

zakir khan sad shayari

यूँ तोह भूले हैं हमें लोग कई, 
पर तुम जितना उनमें से कभी याद नहीं आया
Yun To Bhoole Hain Humein Log Kayi, 
Par Tum Jitna Unmein Se Kabhi Yaad Nahi Aaya.
 

zakir khan sad shayari

zakir khan poetry

बेवजह बेवफ़ाओं को याद किया है, 
गलत लोगों पे बहुत वक़्त बर्बाद किया है
Bewajeh Bewafaaon Ko Yaad Kiya Hai, 
Galat Logon Pe Bahut Waqt Barbaad Kiya Hai

zakir khan poetry

zakir khan shayari on love

हर एक कॉपी के पीछे कुछ न कुछ खास लिखा है
बस इस तरह तेरे मेरे इश्क का इतिहास लिखा है
तू दुनिया मैं चाहे जहाँ भी रहे
अपनी डायरी में मैंने तुझे पास लिखा है
Har Ek Copy Ke Peeche, 
Kuch Na Kuch Khaas Likha Hai, 
Bas Is Tarah Tere Mere Ishq Ka 
Itihaas Likha Hai, 
Tu Duniya Main Chahe Jahan Bhi Rahe, 
Apni Diary Mei Maine Tujhe Paas Likha Hai

zakir khan shayari on love

zindagi se kuch zyada nahi

ज़िन्दगी से कुछ ज़्यादा नहीं, 
बस इतनी सी फ़रमाइश है. 
अब तस्वीर से नहीं 
तफ्सील से मिलने की ख्वाहिश है.
Zindagi Se Kuch Zyaada Nahi, 
Bas Itni Si Farmaaish Hai.
Ab Tasveer Se Nahi 
Tafseel Se Milne Ki Khwaaish Hai.

zindagi se kuch zyada nahi