Poetry Tadka

Munawar Faruqui Shayari

At this page read latest Munawar Faruqui Shayari and many more मुनव्वर फारूकी शायरी at poetry tadka.

Munawar Daruqui Shayari ! मुनव्वर फारूकी शायरी

Munawar Faruqui Shayari In Hindi

हसी की तिजारत कर रहा था शहरों में 
राहतें ढूंढ रहा था था गैरो में
मुझे आने में देर हुई, माफ़ करना 
अपनों के तोड़े कांच थे पैरों में

Pyar Ka Dard Sher O Shayari

ये सुना है कि हिज्र में मेरे आपने मुस्कुराना छोड़ दिया
ये तो ऐसा है जैसे मछली ने सर्दियों में नहाना छोड़ दिया

Pyar Ka Mitha Dard Shayari

दिल आबाद कहाँ रह पाए उस की याद भुला देने से
कमरा वीराँ हो जाता है इक तस्वीर हटा देने से

Hamara Haq To Nahin Hai

हमारा हक तो नही है फिर भी ये तुमसे कहते है 
हमारी जिंदगी ले लो मगर उदास मत रहा करो

उलझते रहने में कुछ भी नहीं थकन के सिवा
बहुत हक़ीर हैं हम तुम बड़ी है ये दुनिया

Pyar Ka Dard Ki Shayari

शाखों से टूट जायें वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रहे

Pyaar Ka Dard Bhari Shayari

उनकी तस्वीर को सीने से लगा लेते हैं
इस तरह जुदाई का गम मिटा लेते हैं
अगर कभी उनका जिक्र हो जाए तो
भीगी पलकों को हम झुका लेते हैं

Pyar Ka Dard Shayari

चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं
मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते है
बच के रहना इन हुसन वालों से यारो
इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं

Pyar Ka Dard Hai Serial Shayari

Tum Mujh Par Lagao , Hum Tum Par Lagaye
Ye Jakham Maharam Se Nhi , To Ilzaamo Se Bhar Jayege

Ye Zakhm Marham Ki Nahi

तुम मुझ पर लगाओ….हम तुम पर लगायें
ये ज़ख्म मरहम से नही…तो इल्ज़ामों से भर जायेंगे
Tum Mujh Par Lagao….ham Tum Par Lagaayen
Ye Zakhm Maraham Se Nahee…to Ilzaamon Se Bhar Jaayenge

Pyar Ka Dard Hai Meetha Shayari

Baadal Barasne Ka Mausam Hota Hai
Aankhe Barasne Ka Mausam Koi Nahi
Hum Tere Pyar Mein Gham E Zaher Peete Rahe
Phir Bhi Ek Boond Aansu Tu Royi Nahi