Poetry Tadka

Ehsaas Shayari

Itni Mohabbat

ना जाने इतनी मुहब्बत कहां से आई है तेरे लिये
कि मेरा दिल भी तेरी खातिर मुझसे रूठ जाता है.

Hum Gustakh Log

अपने हसीन होठो 💋को किसी परदे में छुपा लिया करो
हम गुस्ताख़ लोग हे, नजरो से चुम लिया करते हे

Sikayat Na Kiya Karo

हर बार शिकायत ना किया करो.. 🍁🍁
कभी तो मुस्कुराहट😊 से मिला करो 💞

Main Sabse Door

मैं सबसे दूर होना चाहता हूं... मुझे अपनी जरुरत पड़ गयी है .

Mian Khud Sa Hun

मैं खुद सा ही हूँ और ऐसा ही रहूंगा... ना साया और ना ही आईना तुम्हारा...

Kon Kahta Hai

कौन कहता है कि दिल सिर्फ सीने में होता है तुझको लिखूँ तो मेरी उंगलियाँ भी धड़कती हैं ...!!❤

Usey Bewafa Kahkar

उसे बेवफा कहकर.. हम अपनी ही नजरो में गिर जाते.. क्यूंकि वो प्यार भी अपना था.. और पसंद भी अपनी..

Me Aur Mere Ehsaas Shayari

भरे बाज़ार से अक्सर मैं ख़ाली हाथ लौट आता हूँ, कभी ख्वाहिश नहीं होती तो कभी पैसे नहीं होते...

Zindagi Ka Saath

जबरदस्ती मत मांगना साथ कभी ज़िन्दगी में किसी का, कोई ख़ुशी से खुद चलकर आये उसकी ख़ुशी ही कुछ और होती है..|| 😊😊😊

Main Uska Hun

"मैं उसका हूँ, वो इस एहसास से इंकार करता है
भरी महफ़िल में वो रूसवा मुझे हर बार करता है
यकीं है सारी दुनिया को ख़फ़ा है मुझसे वो लेकिन
मुझे मालूम है फिर भी मुझी से प्यार करता है..."