www.poetrytadka.com

Sundarta Par Phayar

कौन देखता है किसी को अब 
सीरत की नज़र से, 
सिर्फ खूबसूरती को पूजते है, 
नए ज़माने के लोग।

Kaun dekhata hai kisee ko ab 
seerat kee nazar se. 
Sirph sundrta ko poojate hai, 
nae zamaane ke log.

Sundarta Par Phayar