www.poetrytadka.com

smajhdar ho gae

कुछ ठोकरों के बाद समझदार हो गये !
अब दिल के मशवरो पर अमल नहीं करते !!