Shero shayari On Life

shero shayari on life

tum to likhte rahe meri aankho par gajal
tumne kabhi pucha ke rote q ho
तुम तो लिखते रहे मेरी आँखों पर गजल
तुमने कभी पूछा के रट क्यू हो

kisi ne pucha sacchi muhabbat ki nishani kya hai
maine kaha ab iske baad kisi se mohubbat na ho
किसी ने पूछा सच्ची मोहब्बत की निशानी क्या है
मैंने कहा अब इसके बाद किसी से मोहब्बत न हो

gulaab aankhen sharab aankhen
yahi to hai lajawab aankhen
गुलाब आँखें शराब आँखें
यही तो है लाजवाब आँखें

inhi main ulfat inhi main nafrat
sawal aankhen jawab aankhen
इन्ही मैं उल्फ़त इन्ही मैं नफरत
सवाल आँखें जवाब आँखें

Read More