www.poetrytadka.com

Shayari on Loneliness

Shayari on Loneliness
हम अपनी हस्ती मिटा कर भी तनहा हैं
सब कुछ लुटा कर भी तनहा हैं
ham apanee hastee mita kar bhee tanaha hain
sab kuchh luta kar bhee tanaha hain

मुझसे नाराज है तो छोड़ दे तन्हा मुझको
ए ज़िन्दगी मेरा रोज़ रोज़ तमशा न बनाया कर
mujhase naaraaj hai to chhod de tanha mujhako
e zindagee mera roz roz tamasha na banaaya kar