www.poetrytadka.com

Shayad aane wali

इसी कशमकश में कट जाती है हर रात,
कि शायद आने वाली सुबह कुछ खुशियाँ लेकर आएगी...!