www.poetrytadka.com

Samjhata har koi

Last Updated
क़ुछ इसलिये भी नहीं करते हाल ए दिल बयां !
समझता कोई नहीं, समझाता हर कोई !!