www.poetrytadka.com

Samajh nahi pai

मेरे दर्द से तो पत्थर तक पिघल जाये,
बस एक वो है जो ये समझ नहीं पाई
Samajh nahi pai