www.poetrytadka.com

Sah nahi paae

बहुत बिखरा बहुत टूटा मगर सह नहीं पाए 

हवाओं के इशारो पे मगर हम बह नहीं पाए 

अधुरा अनसुना ही रह गया प्यार का किस्सा 

कभी तुम सुन नहीं पाए कभी हम कह नहीं पाए