www.poetrytadka.com

sabr ka imtihan kya doo mai

इस से बढ कर अपने सब्र का इम्तीहान क्या देता मै !
मेरा प्यार मेरे ही कांधे पर सर रख कर रो रहा था किसी और के लिये !!