www.poetrytadka.com

Sabko udas kya rakhiae

Last Updated
टूटे दिल को, संभलने की आस क्या रखिये !
कितना खोया ज़िंदगी में हिसाब क्या रखिये !
अगर बांटनी है तो खुशियाँ बांटो दोस्तों से !
अपने अज़ाब अपने हैं,सब को उदास क्या रखिये !!