www.poetrytadka.com

Ruthe zindgi

रूठे जो जिदगी तो मना लेगे हम !
मिले जो गम तो निभा लेगे हम !
बस तुम रहना साथ हमारे !
पिघलते आँसू मे भी मुस्कुरा लेग