www.poetrytadka.com

Roz pyar jtane ki ak phursat

तारीखों में बंध गया है अब, इजहार ए मोहब्बत भी !
रोज प्यार जताने की अब किसी को फुर्सत कहां !!