www.poetrytadka.com

raftar pe na itra

Last Updated
ए ज़िंदगी तू अपनी रफ़्तार पे ना इतरा,
अगर मैने रोक ली साँसें तो,
तू भी चल नही पाएगी
raftar pe na itra