www.poetrytadka.com

Raat kya dhali

रात क्या ढली सितारे चले गए

गैरों से क्या शिकायत जब हमारे चले गए

जीत सकते थे हम भी इश्क़ की बाज़ी

पर उनको जिताने की धुन में हम हारे चले गए