www.poetrytadka.com

Raat hoti hai aankho me

जाने उस शख्स को कैसा हुनर आता है 
रात होते ही आँखों में उतर जाता है 
मै उसके खयालो से बच के कहा जाऊ 
वो मेरी हर सोच के रास्ते पे नज़र आता है 

Raat hoti hai aankho me