www.poetrytadka.com

Raat bhar taareef

रात भर तारीफ की मैंने तुम्हारी चाँद इनता

जल गया सुनकर सुबह तक सूरज हो गया !!

raat bhar taareef