www.poetrytadka.com

Qbool kro mujhe

कबूल करो मुझे, बिना आजमाए हुए !
कि.. हीरा परखे बगैर भी, हीरा ही होता है !!