Pyar kijiye

जिस्म तो बहुत संवार चुके रूह का सिंगार कीजिये

फूल शाख से न तोड़िए खुशबुओं से प्यार कीजिये.

Read More Pyar ki shayari