www.poetrytadka.com

Mirza Ghalib Shayari


हर एक बात पे कहते हो तुम के तू क्या है
तुम्ही कहो के ये अंदाज़-इ-गुफ्तगू क्या है
रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल
जब आँख हे से न टपका तो फिर लहूं क्या है
har ek baat pe kahate ho tum ke too kya hai
tumhee kaho ke ye andaaz-i-guphtagoo kya hai
ragon mein daudate phirane ke ham nahin qaayal
jab aankh he se na tapaka to phir lahoon kya hai

Mirza Ghalib Shayari