www.poetrytadka.com

हम को उन से वफ़ा की है उम्मीद 
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है...
Ham ko un se vafa kee hai ummeed 
Jo nahin jaanate vafa kya hai.

दुख देकर भी सवाल करते हो
ग़ालिब तुम भी कमाल करते हो.
Dukh dekar bhi sawaal karte ho,
Ghalib tum bhi kamaal karte ho.

जब लगा था तीर तब इतना दर्द न हुआ ग़ालिब 
ज़ख्म का एहसास तब हुआ जब 
कमान देखी अपनों के हाथ में।
Jab laga tha teer tab itna dard na hua
Ghalib zakhm ka ahsas tab hua jab
kamaan dekhi apnon ke hath men.

Mirza Ghalib Sad Shayari