www.poetrytadka.com

बैठे चाय की प्याली लेकर पुराने किस्से गरम करने
चाय ठंडी होती गई और आँखें नाम
baithe chaay kee pyaalee lekar puraane kisse garam karane
chaay thandee hotee gaee aur aankhen naam

हमने अक्सर तुम्हारी राहों में
अक्सर तुम्हारा इंतज़ार किया
hamane aksar tumhaaree raahon mein
aksar tumhaara intazaar kiya
Gulzar Shayari on Life