www.poetrytadka.com

Gulzar Love Shayari


साथ साथ घुमते हैं हम दोनों रात भर
लोग मुझे आवारा और उसे चाँद कहते हैं
saath saath ghumate hain ham donon raat bhar
log mujhe aavaara aur use chaand kahate hain

ये इश्क़ मोहब्बत की रिवायत भी अजीब है
पाया नहीं है जिसको उसे खोना भी नहीं चाहते
ye ishq mohabbat kee rivaayat bhee ajeeb hai
paaya nahin hai jisako use khona bhee nahin chaahate

Shayari by Gulzar