www.poetrytadka.com

बेवजह नही रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब 
जिसे खुद से बढ़कर चाहो वो रुलाता जरूर है
Bevajah nahi rota ishq mein koi Ghalib. 
Jise khud se badhkar chaho vo rulata jaroor hai.

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश गालिब 
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने.
Ishq par jor nahin ye wo aatish hai Ghalib,
Ki lagaye na lage aur bujhaye na bane.

हम तो फ़ना हो गए उनकी आंखे देखकर ग़ालिब 
ना जाने वो आइना कैसे देखते होंगे.
Ham to fana ho gaye unki aankhen dekhkar
na jane wo aaina kaisey dekhte hongey.
 

Ghalib Shayari on Love