www.poetrytadka.com

Galib Shayari


हुई मुद्दत कि ग़ालिब मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता
huee muddat ki gaalib mar gaya par yaad aata hai,
vo har ik baat par kahana ki yoon hota to kya hota

वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत हैं!
कभी हम उमको, कभी अपने घर को देखते हैं
vo aae ghar mein hamaare, khuda kee qudarat hain!
kabhee ham umako, kabhee apane ghar ko dekhate hain

Mirza Ghalib Shayari