www.poetrytadka.com

हुई मुद्दत कि ग़ालिब मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता
Hui muddat ki Galib mar gaya par yaad aata hai.
Wo har ek baat par kahna ki youn hota to kya hota.

हैं और भी दुनिया में सुखनवर बहुत अच्छे
कहते हैं कि गालिब का है अंदाज-ए बयाँ और।
Hain aur bhi duniyan me sukhanwar bahot achchey
kahte hain ki ghalib ka hai andaz-e-bayan aur.

कहते हैं जीते हैं उम्मीद पे लोग
हम को जीने की भी उम्मीद नहीं.
Kahte hain jeete hain ummeed pe log,
hamko jeene ki bhi ummeed nahin.

Mirza Galib Shayari